Azan Ke Baad Ki Dua

Azan Ke Baad Ki Dua | azan ke baad ki dua in english

क्या आप जानते हैं Azan Ke Baad कौन सी दुआ पढ़ना चाहिए,इस्लाम में मुसलमान अज़ान (Azan ) को इतना importentance क्यों देते हैं ,

क्या आप जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को ध्यान से पूरा पढ़े |आज के इस आर्टिकल में हम आपको Azan के बारे में और Azan Ke Baad Ki Dua के बारे में बताएँगे।

Azan Ke Baad Ki Dua

अज़ान का इस्लाम में बहुत बड़ा मकाम है ये वो चंद अलफ़ाज़ हैं जिन्हें हम पुरे दिन के बीच में पांच बार सुनते हैं|पूरी दुनिया मे सबसे ज्यादा गूंजने वाली आवाज अगर कोई है तो वो सिर्फ अज़ान Azan की आवाज है.

चाहे जंगल हो या आबादी, शहर हो या गांव , दुनिया के किसी भी कोने में कहीं भी नमाज़ कायम होती है तो सबसे पहले अज़ान दी जाती है|

Azan ka tarjuma hindi me  अज़ान का मतलब ऐलान होता है यानी की अल्लाह की इबादत [नमाज] के लिए लोगो को मस्जिद में बुलाने की दावत दी जाती है और लोग मस्जिद में पहुँचते हैं अज़ान की आवाज सुन कर इसे अजान कहा जाता है |

अच्छी किताबे यहाँ पढ़ें

दूसरे शब्दों में यह भी कह सकते है की अल्लाह के घर में यानी मस्जिद में नमाज की दावत के लिए पुकारना ही अज़ान है और जो नमाज़ के बुलावे के तौर पर कहा जाता है |

आज हम अज़ान के बाद पढ़ी जाने वाली दुआ बयान करेंगे जिसकी हदीस में बड़ी फ़ज़ीलत आई है इसलिए हम और आप सभी इस दुआ को ज़रूर पढ़े जब भी कानो में अजान सुनाई दे|Azan Ke Baad Ki Dua जरूर पढ़े |

हम दिन में से पांच मर्तबा हर रोज अज़ान सुनते है अज़ान सुनते वक़्त बाते नहीं करना चाहिए | और सारे दुनियावी काम छोड़ देना चाहिए|

यहाँ तक की अगर हम क़ुरान पाक की तिलावत भी कर रहे हो तो भी क़ुरान शरीफ बंद करके हमें अज़ान सुनने का हुक्म है और Azan का जबाब देने के बाद Azan Ke Baad Ki Dua पढ़े |

मगर आज ये आलम है की अज़ान के वक़्त टीवी ,मोबाइल, बाते, हंसी मजाक कुछ भी बंद नहीं करते दोस्तों  इस्लाम में अज़ान का बहुत बड़ा मर्तबा है हम सबको अज़ान का एहतराम करना चाहिए |

और जब भी हम अज़ान सुने तो सब से पहले तो मुअज़्ज़िन की अज़ान का जवाब दे और अज़ान का जवाब वैसे ही देना है जैसे मुअज़्ज़िन कहता है|और इसके साथ ही azan ke baad ki dua भी पढ़ना चाहिए।

ये भी पढ़े :- सूरह फातिहा

अज़ान के बारे में चंद हादिसे

अब्दुल्लाह बिन अ़म्र बिन अल-आस रज़ियल्लाहू अन्हुमा फ़रमाते हैं कि मैंने नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को यह कहते हुए सुना: हैं

जब तुम मुअज़्ज़िन (की आवाज़) सुनो तो बिल्कुल ऐसा ही कहो जैसा मुअज़्ज़िन कहता है, फिर मुझ पर दरूद भेजो,जो शख़्स मुझ पर एक बार दरूद पढ़ता है,उस पर अल्लाह तआला अपनी दस रहमतें नाज़िल फ़रमाता है

और इसके बाद अल्लाह तआला से मेरे लिए वसीले का सवाल करो क्योंकि यह जन्नत में एक मक़ाम है जिस पर अल्लाह का एक बन्दा फ़ाइज़ होगा, और में उम्मीद करता हूं कि वह में हूँ ,

 तो जिसने मेरे लिए वसीला तलब किया इसके लिए मेरी शिफ़ाअत हलाल हो गई। (रवाह मुस्लिम)

हैय्य अलस-सलाह और हैय्य अलल् फ़लाह का जवाब “ला हौ ल व ला क़ुव्वत  इल्ला बिल्लाह” देना है

अससलातु ख़ैरुम् मिनन् नौम का जवाब अससलातु ख़ैरुम् मिनन् नौम ही दिया जाएगा क्योंकि इसका अलग से जवाब वारिद नहीं है | जब अज़ान पूरी हो जाए तब हमेशा azan ke baad ki dua पढ़नी चाहिए।

Azan ka tarjuma hindi me

अजान देने वाले को ‘मुअज्जिन‘ कहते हैं। मुअज्जिन रोज़ाना दिन में पाँच बार अजान देता है और दुनियाँ के कामों में व्यस्त लोगों को नमाज़ के लिए बुलाता है। अजान देने वाला इंसान वुजू करके पाक होकर अजान देता है |

मुअज्जिन किसी ऊंची जगह पर किब्ला की तरफ मुंह कर के खड़ा हो कर , और दोनों कानों के सूराखों में उंगलियां डाल कर बुलन्द आवाज़ से अज़ान के कलिमे बोलना शुरू करे। आगे हम आपको azan ka tarjuma hindi me बताएँगे।

ये भी पढ़े :- सूरह रहमान

Azan ka tarjuma hindi me

अज़ान का तर्जुमा हिंदी में किया गया हैं ताकि आप लोगो को आसानी से समझ आ जाये और ये भी जान सके की अजान में क्या-क्या कहा जाता हैं,

अल्लाहु अक्बर अल्लाहु अक्बर
( अल्लाह बहुत बड़ा है , अल्लाह बहुत बड़ा है )


अल्लाहु अक्बर अल्लाहु अक्बर
( अल्लाह बहुत बड़ा है , अल्लाह बहुत बड़ा है )


अश्हदु अल – ला इ ला – ह इल्लल्लाह
( में गवाही देता हूँ की अल्लाह के अलावा कोई माबूद नहीं )


अश्हद् अल – ला इला – ह इल्लल्लाह
( में गवाही देता हूं की अल्लाह के अलावा कोई माबूद नहीं )


अश्हदु अन – न मुहम्मदर – रसू – लुल्लाह
( में गवाही देता हूं की हज़रत मुहम्मद { सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ) अल्लाह के रसूल हैं )


अश्हदु अन – न मुहम्मदर – रसू – लुल्लाह
( में गवाही देता हूं की हज़रत मुहम्मद [ सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ] अल्लाह के _ _ रसूल हैं )


हय – य अलस्सला :
आओ नमाज़ पढ़ने के लिए )


हय – य अलस्सला :
( आओ नमाज़ पढ़ने के लिए )


हय – य अलल् फ़लाह
( आओ निजात पाने के लिए )


हय – य अलल् फ़लाह
( आओ निजात पाने के लिए )


अल्लाहु अक्बर अल्लाहु अक्बर
( अल्लाह बहुत बड़ा है , अल्लाह बहुत बड़ा है )


ला इला – ह इल्लल्लाह
( अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं )

Azan Arbi me

Azan arbic image | azan ka tarika
अरबिक में अज़ान

अजान के बाद की दुआ हिन्दी में

“अल्लाहुम्मा रब्बा हाज़ीहिल दावती-त-ताम्मति वस्सलातिल कायिमति आती सैय्यिदिना मुहम्मदा नील वसिलता वल फ़ज़ीलता वद्दरजतल रफ़ीअता वब’असहू मक़ामम महमूदा निल्ल्जी व्’अत्तहू वर ज़ुक्ना शफ़ाअतहु यौमल क़ियामती इन्नका ला तुखलिफुल मीआद ”

Azan ke Baad ki Dua Hindi Me Tarjuma


ए अल्लाह इस दावते ताम्मा और कयामत तक बाकी रहने वाली नमाज के रब तू हमारे सरदार मुहम्मद सल्लाल्लाहु तआला अलैहि व् सल्लम  को वसीला और फजीलत और बुलंद दर्जा अता कर

और उनको मकामे मेहमूद में खड़ा कर जिस का तूने वादा किया हे और हमें कयामत के दिन उनकी शफाअत नसीब कर बेशक तू वादा के खिलाफ नहीं करता |

ये भी पढ़े :- आयतुल कुर्सी हिंदी में

अजान के बाद की दुआ अरबी में

आये अब हम अज़ान की दुआ अरबी में पढ़े और साथ ही अमल करने की कोशिश करे | जब भी अज़ान सुने तभी हम सब को चाहिए कि अज़ान के बाद की दुआ पढ़े |

Azan arbic image | azan ka tarika
अजान के बाद की दुआ

Azan Ke Baad Ki Dua hindi me Tarjuma के साथ समझ कर पढ़े और अमल करे|

अल्लाह तआला हम सबको Azan Ke Baad Ki Dua पढने और अज़ान का जबाब देने वाला बनाये | अल्लाह तआला हम सबको शिर्क की तमाम शकलों से महफूज़ फरमाए अमीन ।

इस आर्टिकल में हमने आप लोगो की आसानी के लिए Azan Ke Baad Ki Dua कौन सी पढ़नी चाहिए।ये बतया हैं.

और साथ ही azan ke baad ki dua hindi me tarjuma किया हैं | और अज़ान का जबाब कैसे देना है ये भी बतया हैं और साथ ही azan arbi me भी बताया है।

Azan arbic image | azan ka tarika
अज़ान के बाद की दुआ हिंदी में तर्जुमा

इस आर्टिकल को लिखने में हमने पूरी कोशीश कि है कि कही कोई गलती न हो फिर भी अगर आप को पढ़ कर ऐसे लगे कर कही भी कुछ भी गलती हुई हो,

तो हमें कमेंट कर के जरूर बताये जिससे हम उस गलती को जल्दी से जल्दी ठीक कर सके |

साथ ही इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा share जरूर करे, कुरान की आयतों को फ़ैलाने और शेयर करने में हमारी मदद करने के लिए आप भी हमारे साथ जुड़ सकते है और अच्छी बातें बताना और share करना सदका ए जारिया है। अल्लाह ताला हम सब को नमाज़ पढ़ने की तौफीक अता करे

आमीन

हमारे साथ जुड़ने के लिए कमेंट या फिर Contact पर जा कर मेल कर सकते है

अज़ान के बाद की दुआ

7 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.