नमाज़ छोड़ने के गुनाह

नमाज़ छोड़ने के गुनाह

इस्लाम में 7 साल की उम्र तक नमाज़ सुन्नत होती है लेकिन जैसे ही 7 साल हो जाते हैं उसके बाद इस्लाम में नमाज़ फर्ज कर दी जाती है और नमाज़ को पूरे एहतराम के साथ पड़ने का हुक्म दिया गया है। औरत हो या मर्द सभी पर नमाज़ मुकर्रर की गई है और किसी…

मोमिन को नाहक कत्ल करने की सजा

मोमिन को नाहक कत्ल करने की सजा

अस्सलाम अलैकुम दोस्तों हमारे इस्लाम में सभी मुसलमानों को भाईचारे के साथ रहने का हुक्म दिया गया है। जितने भी मुसलमान भाई बहन है सबको एक दूसरे के साथ प्यार मोहब्बत से रहना है। अल्लाह पाक ऐसे लोगों को बहुत पसंद करते हैं जो सभी के लिए अपने दिल में मोहब्बत रखते हैं ना कि…

पाक दामन औरतों पर तोहमत लगाने का गुनाह ! (Paak Daman Oraton par Tohmat Lagane Ka Gunaah)

पाक दामन औरतों पर तोहमत लगाने का गुनाह ! (Paak Daman Oraton par Tohmat Lagane Ka Gunaah)

“अस्सलाम अलैकुम दोस्तों” हमारा इस्लाम बहुत ही प्यारा मजहब है हमारे इस्लाम में मुस्कुराने पे भी सवाब मिलता है। हम हुज़ूर सल्लल्लाहों अलैहि वसल्लम के उम्मति है और हमारे उम्मत में छोटी छोटी चीज़ों पे सुन्नत मुकर्रर किया है। लेकिन हमारे इस्लाम में छोटी-छोटी चीजों पर गुनाह भी मुकर्रर किया गया है। जैसे कि किसी…

इस्लाम में परदे की अहमियत – Islam Me Parde Ki Ahmiyat
|

इस्लाम में परदे की अहमियत – Islam Me Parde Ki Ahmiyat

अल्लाह  और अल्लाह के रसूल के  फ़रमान  के मुताबिक जिन्दगी गुजारना एक इबादत ही है तो आज आप यहां पर  इसी  इबादत  यानी इस्लाम  में परदे की अहमियत से जुड़ी  सभी बात जानेंगे तो इस पैग़ाम को अव्वल से अंत तक ध्यान  से  पूरी बात को पढ़ें और इल्म में इज़ाफा करें।

खजूर खाने के फायदे और सुन्नत !

खजूर खाने के फायदे और सुन्नत !

हमारे नबी करीम सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम का फरमान है कि सुन्नत को अपनाने बहोत सवाब के हक़दार होंगे और खजूर खाना सुन्नत है और बहोत फायदेमंद भी

MUSLIM BABY GIRLS NAMES – मुस्लिम बच्चियों के नाम

MUSLIM BABY GIRLS NAMES – मुस्लिम बच्चियों के नाम

जब भी कोई इस दुनिया में आता है चाहे वो लड़का हो या लड़की उसकी कोई पहचान नहीं होती। उससे पहचान देने के लिए उसका एक नाम रखा जाता है। और उसी नाम से उसे हर कोई पुकारता है। चाहे उसके घर वाले हो चाहे उसके दोस्त या फिर रिस्तेदार वो उसे उसी नाम से पुकारते है। मुसलमान में जब किसी का नाम रखा जाता है तो सबसे पहले उस नाम का मतलब देखा जाता है क्युकी नाम के माने का बहुत असर पड़ता है जैसा नाम का मतलब होता है वैसे ही उस इंसान की शख्सियत होती है। इसलिए आज हम आपके कुछ इस्लामिक नाम और उसके मतलब लेकर आये है। आइए देखते है MUSLIM BABY NAMES – GIRLS मुस्लिम बच्चियों के नाम

Jannat kya hai | जन्नत का हसीन मंजर

Jannat kya hai | जन्नत का हसीन मंजर

jannat kya hai जन्नत एक आराम और सुकुन की जगह है जो सुकून और आराम हमें दुनिया में कभी नहीं मिल सकता और ये सुकून और आराम सिर्फ ईमान वालों के लिए ही है। जो बंदा अल्लाह के बनाए हुए रास्ते पर चलता है और नेकी का अमल हासिल करता है ऐसे लोगों के लिए जन्नत का दरवाजा खुलता है

Zina Kya Hai ? ज़िना क्या है ?

Zina Kya Hai ? ज़िना क्या है ?

जैसा की हम सब देखते है आजकल हमारे माशरे में बेहेयी कितनी ज्यादा बढ़ती जा रही है आजकल के लड़के लड़किया मॉडर्न बनने के चक्कर में गलत कामो की ओर जा रहे है। पहले तो ये छोटे छोटे गलत काम करते है फिर ये बड़े बड़े गलत काम करने लगते है। आजकल जो सबसे बड़ा गुनाह हो रहा है वो है जीना। आज हम इसी बारे में बात करेंगे की Zina Kya Hai ? सबसे पहले जानते है की जीना होता क्या है।

अल्लाह की कुदरत और अल्लाह की नेमतें

अल्लाह की कुदरत और अल्लाह की नेमतें

क्यूं होती है तो आसमा ने कहा की ये अल्लाह की कुदरत है तो फिर रेहान ने पूछा कि टीचर अल्लाह की और कितनी सारी कुदरत है आप हमें अच्छी तरह बताइए ना तो तभी आसमा ने बताना शुरू किया कि अल्लाह की क्या-क्या कुदरत है उसने शुरुआत की ओर कहा –

हमारे नबी करीम की प्यारी बातें और उनकी आदतें

हमारे नबी करीम की प्यारी बातें और उनकी आदतें

नबी करीम ” सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम ” कि इतनी प्यारी प्यारी बातें और आदतें हैं जिसकी वजह से इस्लाम मजहब में और चार चांद लग गए और हमारा इस्लाम मजहब दुनिया का सबसे खूबसूरत मजहब हो गया।