सूरह रहमान हिंदी में (2022)

surah rahman in hindi | surah rahman in arabic | surah rahman in hindi image

पहले ही लफ़्ज़ अर रहमान को इस सूरा का नाम क़रार दिया गया है। इस का मतलब ये है कि जो अलरहमान से शुरू होती है ताहम इस नाम को सूरत के मज़मून से भी गहिरी मुनासबत है,

क्योंकि इस में शुरू से आख़िर तक अल्लाह ताला की सिफ़त को बताया गया है आज हम बताएँगे Surah Rahman Hindi में .

सूरह रहमान मदनी है और इस में 78 आयतें हैं, इस सुरह में हमारी रोज़ाना की ज़िन्दगी में आने वाली परेशानी और मुश्किलात का हल मौजूद है,

इस सूरे में अल्लाह ताला ने जो नेमते हम लोगो को दी है उसको याद दिलाया है, हम लोगो को चाहिए की अल्लाह की दी हुई नेमतों का शुक्र अदा करे जैसे की शुक्र अदा करने का हक़ है

ये भी पढ़े – दुआ ए कुनूत

सूरह रहमान Video

यहाँ पर आप को सूरह रहमान का वीडियो मिल जायेगा आप वीडियो देख कर सूरह को याद् कर सकते है।

Surah Rahman Hindi Tarjuma

यहाँ पर सूरे रहमान के अरबी अल्फाज़ को हिंदी में लिखा है जिससे जिसको अरबी नहीं आती वो भी अरबी अल्फाज़ को पढ़ सकता है, और उसके निचे हिंदी तर्जुमा भी लिखा है, आप हिंदी का तर्जुमा भी पढ़ सकते है

अ ऊजु बिल्लाहि मिनश शैतानिर रजीम

बिस्मिल्लाहिर रहमानिर रहिम

अल्लाह के नाम से शुरू करता हूँ जो बहुत मेहरबान रहमत वाला हैं

1. अर रहमान

वही बेहद महेरबान खुदा है

2. अल लमल कुरआन

जिसने कुरान की तालीम दी

3. खलक़ल इंसान

उसी ने इंसान को पैदा किया

4. अल लमहुल बयान

और उसको बोलना सिखाया

5. अश शम्सु वल कमरू बिहुस्बान

सूरज और चाँद एक ख़ास हिसाब के पाबन्द हैं

6. वन नज्मु वश शजरू यस्जुदान

तारे और दरख़्त ( पेड़ ) सब सजदे में हैं

7. वस समाअ रफ़ाअहा व वदअल मीज़ान

उसी ने आसमान को बलंद किया और तराज़ू क़ायम की

8. अल्ला ततगव फिल मीज़ान

ताकि तुम तौलने में कमी बेशी न करो

9. व अक़ीमुल वज्ना बिल किस्ति वला तुख सिरुल मीज़ान

इन्साफ के साथ ठीक ठीक तौलो और तौल में कमी न करो

10. वल अरदा वदअहा लिल अनाम

और ज़मीन को उसने मख्लूक़ के लिए बनाया है

11. फ़ीहा फाकिहतुव वन नख्लु ज़ातुल अक्माम

जिसमें मेवे और खजूर के दरख़्त हैं, जिनके खोशों पर गिलाफ़ चढ़े हुए हैं

surah rahman in hindi | surah rahman in arabic | surah rahman in hindi image

12. वल हब्बु जुल अस्फि वर रैहान

और जिसमें भूसे वाला अनाज और ख़ुशबूदार फूल होता है

13. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

14. खलक़ल इन्सान मिन सल सालिन कल फख्खार

उसने इंसान को ठीकरे जैसी खनखनाती हुई मिट्टी से पैदा किया

15. व खलक़ल जान्ना मिम मारिजिम मिन नार

और जिन्नात को आग के शोले से पैदा फ़रमाया है

16. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

17. रब्बुल मश रिकैनि व रब्बुल मगरिबैन

वही दोनों मशरिकों और दोनों मगरिबों का भी रब है

18. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

19. मरजल बह रैनि यल तकियान

उसने दो ऐसे समंदर जारी किये, जो आपस में मिलते हैं

20. बैनहुमा बरज़खुल ला यब गियान

लेकिन उन दोनों के दरमियान एक रुकावट है कि दोनों एक दुसरे की तरफ़ बढ़ नहीं सकते

surah rahman in hindi | surah rahman in arabic | surah rahman in hindi image

21. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

22. यख रुजु मिन्हुमल लुअ लूऊ वल मरजान

उन दोनों से बड़े बड़े और छोटे छोटे मोती निकलते हैं

23. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

24. वलहुल जवारिल मून शआतु फिल बहरि कल अअ’लाम

और उसी के कब्जे में रवां दवा वो जहाज़ हैं जो समंदर में पहाड़ों की तरह ऊंचे खड़े हैं

25. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

26. कुल्लू मन अलैहा फान

जो कुछ भी ज़मीन पर है सब फ़ना होने (मिटने) वाला है

27. व यब्का वज्हु रब्बिका जुल जलालि वल इकराम

और सिर्फ़ आप के रब की ज़ात बाक़ी रहेगी जो बड़ी इज्ज़त व करम व करम वाली होगी

28. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

surah rahman in hindi | surah rahman in arabic | surah rahman in hindi image

29. यस अलुहू मन फिस समावाति वल अरज़ि कुल्ला यौमिन हुवा फ़ी शअन

आसमानों ज़मीन में जो लोग भी हैं, वो सब उसी से मांगते हैं हर रोज़ उस की एक शान है

30. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

31. सनफ रुगु लकुम अय्युहस सक़लान

ए इंसान और जिन्नात ! अनक़रीब हम तुम्हारे हिसाबो किताब के लिए फारिग़ हो जायेंगे

32. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

33. या मअशरल जिन्नि वल इन्सि इनिस त तअतुम अन तन्फुजु मिन अक तारिस सामावती वल अरज़ि फनफुजू ला तन्फुजूना इल्ला बिसुल तान

ए इंसानों और जिन्नातों की जमात ! अगर तुम आसमान और ज़मीन की हदों से निकल भाग सकते हो तो निकल भागो मगर तुम बगैर ज़बरदस्त कुव्वत के नहीं निकल सकते

34. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

surah rahman in hindi | surah rahman in arabic | surah rahman in hindi image

35. युरसलू अलैकुमा शुवाज़ुम मिन नारिव व नुहासून फला तन तसिरान

तुम पर आग के शोले और धुवां छोड़ा जायेगा फिर तुम मुकाबला नहीं कर सकोगे

36. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

37. फ़इजन शक़ क़तिस समाउ फकानत वर दतन कद दिहान

फिर जब आसमान फट पड़ेगा और तेल की तिलछट की तरह गुलाबी हो जायेगा

38. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

39. फयौम इज़िल ला युस अलु अन ज़मबिही इन्सुव वला जान

फिर उस दिन न किसी इंसान से उस के गुनाह के बारे में पुछा जायेगा न किसी जिन से

40. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

41. युअ रफुल मुजरिमूना बिसीमाहुम फ़युअ खजु बिन नवासी वल अक़दाम

उस दिन गुनाहगार अपने चेहरे से ही पहचान लिए जायेंगे, फिर वो पेशानी के बालों और पांव से पकड़ लिए जायेंगे

surah rahman in hindi | surah rahman in arabic | surah rahman in hindi image

42. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

43. हाज़िही जहन्नमुल लती युकज्ज़िबू बिहल मुजरिमून

यही वो जहन्नम है जिसको मुजरिम लोग झुटलाया करते थे

44. यतूफूना बैनहा व बैन हमीमिन आन

वो दोज़ख़ और खौलते हुए पानी के दरमियान चक्कर लगायेंगे

45. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

46. व लिमन खाफ़ा मक़ामा रब्बिही जन नतान

और जो अपने रब के सामने खड़े होने से डरता था उसके लिए दो जन्नते हैं

47. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

48. ज़वाता अफ्नान

दोनों बाग़ बहुत सी टहनियों वाले ( घने ) होंगे

49. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

50. फीहिमा ऐनानि तजरियान

दोनों में दो चश्मे बह रहे होंगे

51. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

surah rahman in hindi | surah rahman in arabic | surah rahman in hindi image

52. फीहिमा मिन कुल्लि फकिहतिन ज़वजान

उन बाग़ों में हर मेवे दो दो किस्मों के होंगे

53. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

54. मुततकि ईना अला फुरुशिम बताईनुहा मिन इस्तबरक़ वजनल जन्नतैनी दान

( जन्नती लोग ) ऐसे बिस्तरों पर आराम से तकिया लगाये होंगे जिन के अस्तर दबीज़ रेशम के होंगे और दोनों बाग़ों के फ़ल (क़रीब ही) झुके हुए होंगे

55. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

56. फ़ी हिन्ना कासिरातुत तरफि लम यतमिस हुन्ना इन्सून क़ब्लहुम वला जान

उन में नीची नज़र रखने वाली हूरें होंगी, जिन को उन से पहले न किसी इंसान ने हाथ लगाया होगा न किसी जिन ने

57. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

58. क अन्न हुन्नल याकूतु वल मरजान

वो हूरें ऐसी होंगी जैसे वो याकूत और मोती हों

59. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

surah rahman in hindi | surah rahman in arabic | surah rahman in hindi image

60. हल जज़ा उल इहसानि इल्लल इहसान

भला अहसान ( नेक अमल ) का बदला अहसान ( बेहतर अज्र ) के सिवा कुछ और भी हो सकता है

61. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

62. वमिन दूनिहिमा जन नतान

और उन दो बाग़ों के अलावा दो और बाग़ भी होंगे

63. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

64. मुद हाम मतान

जो दोनों गहरे सब्ज़ रंग के होंगे

65. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

66. फीहिमा ऐनानि नज्ज़ा खतान

उन दोनों बाग़ों में दो उबलते हुए चश्मे भी होंगे

67. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

68. फीहिमा फाकिहतुव व नख्लुव वरुम मान

उन में मेवे, खजूर, और अनार होंगे

69. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

70. फिहिन्ना खैरातुन हिसान

उन में नेक सीरत ख़ूबसूरत औरतें भी होंगी

surah rahman in hindi  surah rahman in arabic  surah rahman in hindi image

71. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

72. हूरुम मक्सूरातुन फिल खियाम

खेमों में महफूज़ गोरी रंगत वाली हूरें भी होंगी

73. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

74. लम यत मिस हुन्ना इन्सून क़ब्लहुम वला जान

उन से पहले न किसी इंसान ने हाथ लगाया होगा न किसी जिन ने

75. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

76. मुत तकि ईना अला रफ़रफिन खुजरिव व अब्क़रिय यिन हिसान

( जन्नती लोग ) सब्ज़ तकियों और खूबसूरत कालीनों पर टेक लगाये होंगें

77. फ़बि अय्यि आलाइ रब्बिकुमा तुकज़ जिबान

तो ( ए इंसान और जिन्नात ! ) तुम अपने रब की कौन कौन सी नेअमतों को झुटलाओगे

78. तबा रकस्मु रब्बिका ज़िल जलाली वल इकराम

आप के परवरदिगार, जो बड़े जलाल व अज़मत वाले हैं, उन का नाम बड़ा ही बा बरकत है

surah rahman in hindi | surah rahman in arabic | surah rahman in hindi image

ये भी पढ़े – आयतुल कुर्सी हिंदी में

Surah Rahman in Arabic & Urdu में तर्जुमा के साथ

surah rahman ki fazilat | surah rahman in english
सूरह रहमान अरबी में-1
surah rahman in arabic | surah rahman in hindi image
सूरह रहमान अरबी में-2
surah rahman ka tarjuma in hindi | surah rahman in hindi image
सूरह रहमान अरबी में-3
surah rahman in arabic | surah rahman in hindi translation
सूरह रहमान अरबी में-4
surah rahman in hindi translation | surah rahman in hindi image
सूरह रहमान अरबी में-5
surah rahman ki fazilat | surah rahman in hindi
सूरह रहमान अरबी में-6
surah rahman in arabic | surah rahman in hindi translation
सूरह रहमान अरबी में-7
surah rahman ki fazilat | surah rahman in arabic
सूरह रहमान अरबी में-8

ये भी पढ़े – सूरह यासीन

Surah Rahman in English

Bismillaahir Rahmaanir Raheem

  1. Ar Rahmaan
  2. ‘Allamal Quran
  3. Khalaqal insaan
  4. ‘Allamalhul bayaan
  5. Ashshamsu walqamaru bihusbaan
  6. Wannajmu washshajaru yasjudan
  7. Wassamaaa’a rafa’ahaa wa wada’al Meezan
  8. Allaa tatghaw fil meezaan
  9. Wa aqeemul wazna bilqisti wa laa tukhsirul meezaan
  10. Wal arda wada’ahaa lilanaame
  11. Feehaa faakihatunw wan nakhlu zaatul akmaam
  12. Walhabbu zul ‘asfi war Raihaanu
  13. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan
  14. Khalaqal insaana min salsaalin kalfakhkhaari
  15. Wa khalaqal jaaan mim maarijim min naar
  16. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan
  17. Rabbul mashriqayni wa Rabbul maghribayni
  18. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan
  19. Marajal bahrayni yalta qiyaani
  20. Bainahumaa barzakhul laa yabghiyaan
  21. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan
  22. Yakhruju minhumal lu ‘lu u wal marjaanu
  23. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan
  24. Wa lahul jawaaril mun sha’aatu fil bahri kal a’laam
  25. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  26. Kullu man ‘alaihaa faan
  27. Wa yabqaa wajhu rabbika zul jalaali wal ikraam
  28. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  29. Yas’aluhoo man fissamaawaati walard; kulla ywmin huwa fee shaan
  30. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  31. Sanafrughu lakum ayyuhas saqalaan
  32. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  33. Yaa ma’sharal jinni wal insi inis tata’tum an tanfuzoo min aqtaaris samaawaati wal ardi fanfuzoo; laa tanfuzoona illaa bisultaan
  34. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  35. Yursalu ‘alaikumaa shuwaazum min naarifiw-wa nuhaasun falaa tantasiraan
  36. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  37. Fa-izan shaqqatis samaaa’u fakaanat wardatan kaddihaan
  38. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  39. Fa-yawma’izil laa yus’alu ‘an zambiheee insunw wa laa jaann
  40. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  41. Yu’raful mujrimoona biseemaahum fa’yu’khazu binna waasi wal aqdaam
  42. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  43. Haazihee jahannamul latee yukazzibu bihal mujrimoon
  44. Yatoofoona bainahaa wa baina hameemim aan
  45. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  46. Wa liman khaafa maqaama rabbihee jannataan
  47. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  48. Zawaataaa afnaan
  49. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  50. Feehimaa ‘aynaani tajriyaan
  51. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  52. Feehimaa min kulli faakihatin zawjaan
  53. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  54. Muttaki’eena ‘alaa furushim bataaa’inuhaa min istabraq; wajanal jannataini daan
  55. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  56. Feehinna qaasiratut tarfi lam yatmishunna insun qablahum wa laa jaaann
  57. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  58. ka annahunnal yaaqootu wal marjaan
  59. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  60. Hal jazaaa’ul ihsaani illal ihsaan
  61. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  62. Wa min doonihimaa jannataan
  63. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  64. Mudhaaammataan
  65. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  66. Feehimaa ‘aynaani nad daakhataan
  67. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  68. Feehimaa faakihatunw wa nakhlunw wa rummaan
  69. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  70. Feehinna khairaatun hisaan
  71. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  72. Hoorum maqsooraatun fil khiyaam
  73. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  74. Lam yatmis hunna insun qablahum wa laa jaaann
  75. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  76. Muttaki’eena ‘alaa rafrafin khudrinw wa ‘abqariyyin hisaan
  77. Fabi ayyi aalaaa’i Rabbikumaa tukazzibaan.
  78. Tabaarakasmu Rabbika Zil-Jalaali wal-Ikraam

Surah Rahman in hindi में तर्जुमा को समझ कर अमल करने से अल्लाह ताला के पास आप की दुआ काबुल होने की उम्मीद ज्यादा हो जाती हैं|

सूरह रहमान हिंदी में पढ़ने और अमल के साथ 5 वक़्त की नमाज पाबंदी से पढ़े और साथ ही नेक काम करे इंशाअल्लाह आप की दुआ अल्लाह तलाह के बारगाह पर जरूर काबुल हो सकती हैं |

अल्लाह तआला हम सबको कुरान करीम समझ कर पढ़ने वाला और उसपर अमल करने वाला बनाए। अल्लाह तआला हम सबको शिर्क की तमाम शकलों से महफूज़ फरमाए अमीन ।

इस सूरह को पूरा ध्यान से पढ़ने के लिए और सूरह रहमान के बारे में जानने के लिए आप लोगो का शुक्रिया करता हूँ | सूरह रहमान की तिलावत करे और अपनी ज़िन्दगी में अमल करे |

इस आर्टिकल को लिखने में हमने कोशिश की है की कोई गलती न हो फिर आप को ऐसे पढ़ कर कही भी कुछ गलती मिले तो हमें कमेंट कर के जरूर बताये जिससे हम उस गलती को जल्दी से जल्दी ठीक कर सके

साथ ही और भाइयो के साथ इस आर्टिकल को जरूर share करे, कुरान की आयतों को फ़ैलाने और शेयर करने में हमारी मदद करने के लिए आप भी हमारे साथ जुड़ सकते है

हमारे साथ जुड़ने के लिए कमेंट या फिर Contact पर जा कर मेल कर सकते है

सूरह रहमान के 7 फ़ायदे

4 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.