Khana Khane Ki Dua

khana khane ki dua | khana khane ki bad ki dua

theislah.com के इस आर्टिकल में आज हम आपको बताएंगे कि खाना खाने के बाद कौन कौन सी दुआ पढ़ना चाहिए जैसा कि आप सब जानते है कि इस्लाम में हर चीज़ का एक तरीका होता है है और इन तरीकों में हम आपको ये बताएंगे

khana khane ki dua ,khana khane ke Baad ki dua,paani peene ki dua,doodh peene ki dua,aur iftar ki dua, कौन – कौन सी दुआ पढ़ना चाहिए?

ये भी पढ़े :- सूरह यासीन

Khana Khane Ki Dua Video

इस आर्टिकल में दुआओ के बारे में जानकारी दिया गया हैं खाना खाने से पहले कौन सा दुआ पढ़ना चाहिए, पानी पीने की दुआ, दूध पीने की दुआ, इफ्तार में कौन सा दुआ पढ़े |

सबसे पहले बात करते है, Khana Khane Ki Dua के बारे में , खाना खाने से पहले और बाद में पढ़ी  जाने वाली दुआ की, बेशक रिज्क देने वाला अल्लाह है तो खाना खाने से पहले और बाद में हमे अल्लाह का शुक्र अदा करना चाहिए

ये भी देखे : Tasbeeh and Janamaz

Khana Khane Ki Dua Hindi

khana khane ki dua | khana khane ke baad ki dua
खाना खाने के बाद की दुआ

खाने से पहले की दुआ

” बिस्मिल्लाह “

तर्जुमा : मैं अल्लाह के नाम से खाना खाना शुरू करता हूँ।

Bismillah

” بسم الله

शुरू में दुआ पढना भूल जाये तो ये दुआ पढ़े

” बिस्मिल्लाहि अव्वलहू व आखिरह “

तर्जुमा : शुरू और आखिर में अल्लाह का नाम लेकर खाता हूँ

Bismillahi Awwalahoo Wa Akhirahoo”

ये भी देखे : Kalma in Hindi

खाने के बाद की दुआ

“अल्हम्दुलिललाहिल लज़ी अत अमना व सकाना व जा अलना मुस्लिमीन”

तर्जुमा : तमाम तारीफें अल्लाह के लिए हैं जिस ने हमें खिलाया पिलाया और मुसलमान बनाया।

अल्लाह ताला ने ही हम सबको पैदा किया है वो ही हम सब को रिजक देता वो ही  हम सबको खिलाता पिलाता है इसलिए हमे हर हाल में उसका शुक्रिया अदा करना चाहिए।

Al-hamdu Lillah illazee at’amana wa saqana wa ja’alana muslimeen”

पानी पीने की दुआ

जैसा कि हम सब जानते है अल्लाह ताला ने हर काम करने का एक तरीका बताया है उसी तरह पानी पीने का एक तरीका होता है और साथ ही पानी पीने कि कुछ सुन्नत भी है चलिए हम आपको बताते हैं कि पानी पीने की सुन्नत और तरीका क्या है

पानी की सुन्नतें ।

  • . दायें हाथ से पीना
  • . बैठ कर पानी पीना
  • . “बिस्मिल्लाह” पढना
  • . तीन सांस में पीना
  • . पीने के बाद “अल्हम्दुलिल लाह” कहना

ये भी देखे : Astaghfirullah Dua in Hindi

Pani Peene Ki Dua

Dua In Hindi :  बिस्मिल्लाह हिर्रहमान निर्रहीम

तरजुमा : शुरू करता हूँ मैं अल्लाह के नाम से

pani peene ki dua hindi | pani peene ke baad ki dua
पानी पीने की दुआ

Bismillah hirrehmanir raheem”

पानी पीने के बाद की दुआ

Dua In Hindi : अल्हम्दुलिल लाहिल लज़ी सकाना अजबन फुरातम बि रहमतिही वलम यज अल्हु मिल्हन उजाजम बिज़ुनूबिना

तर्जुमा : तमाम तारीफें उस अल्लाह के लिए हैं जिस ने हमें मीठा और साफ़ शफ्फाफ़ पानी पिलाया और हमारे गुनाहों की वजह से खारा और कड़वा नहीं बनाया |

اَلْحَمْدُ لِلّٰهِ الَّذِیْ سَقَانَا عَذْبًا فُرَاتًا بِرَحْمَتِهٖ وَلَمْ یَجْعَلْهُ “مِلْحًا اُجَاجًا بِذُنُوْبِنَا

दुनिया में पानी अल्लाह ताला की एक अजीम नेमत है पानी के बीना कुछ भी नहीं है इसलिए हमें जब भी पानी पीना चाहिए तो अल्लाह ताला का शुक्र अदा करना चाहिए।

किसी भी सुन्नत को मामूली नहीं समझना चाहिए| क्योंके ना जाने कौनसी सुन्नत का अमल करने से हमें अल्लाह ﷻ जन्नत में जगह अता कर दे।

दूध पीने की दुआ  अल्लाह ताला की दी हुई नेमतों में से एक बहुत ही बड़ी नेमत है दूध ।  दूध बहुत ही मुफ़ीद ( फायदेमंद) होता है हमारी सेहत और हमारे जिस्म के लिए। तो आप जब भी दूध पिए तो दूध (Doodh) पिते वक़्त की दुआ (Dua) भी पढ़ लिया करे ! इससे आप को प्रोटीन के साथ-साथ सवाब भी मिलेगा !

दूध पिने की दुआ से पहले आईये हम आपको बता देते है कि हमारे नबी करीम हुजूर मुहम्मद सल्ललाहो अलैहि वसल्लम ने गाय के दूध के वारे में लगभग 1440 साल पहले हमसे क्या फ़रमाया !

ये भी पढ़े – सूरह फातिहा

हदीसे नबवी  : सलल्लाहू अलैहि वसल्लम

दूध के  बारे में हमारे प्यारे नबीये करीम हुजूर मुहम्मद सल्ललाहो अलैहि वसल्लम ने इर्शाद फ़रमाया है-
” गाय का दूध इस्तेमाल किया करो- क्यूंकि गाय के दूध में हर बीमारी से शिफा (cure)  है ‘।”

doodh peene ki dua

doodh peene ki dua | doodh peene ki bad ki dua
दूध पीने की दुआ

“अल्लाहुम्मा बारीक़ लना फ़ीहि व ज़िदना मिन्हु “

तरजुमा: ऐ अल्लाह ! ( अज़्ज़वजल ) हमारे लिए इस में बरकत दे ! और हमें इससे ज्यादा इनायत फरमा ।

“कहा जाता है कि अगर कुछ खाने या पीने से पहले दुआ नहीं पढ़ी जाती है तो उस खाने या पीने में शैतान सरीक हो जाता है ।”

“Allahumma Barik Lanaa Feehi Wa Zidna Minhu”

Iftar ki Dua

iftar ki dua in hindi
इफ्तार की दुआ

Iftar ki dua

रमज़ान रहमतों और मगफिरत का महीना होता है और रमज़ान में की गयी इबादत और नेकियों का सवाब कई गुना बढ़ कर मिलता है और साथ ही रमज़ान के महीने में कुरान की तिलावत की बड़ी फ़ज़ीलत है।

रमज़ान के महीने में कुछ ऐसी दुआए है जिनको पढने से बहुत सवाब मिलता है।

इन दुआओ को पढ़ने से अल्लाह की रहमत हम पर बहुत ज्यादा हो जाती है।

अल्लाह ताला कि ओर से हमारी मगफिरत में आसानी होती है।

रमज़ान एक ऐसा महीना होता है जिसमें कि गई एक इबादत के बदले सत्तर गुना सावाब मिलता है । रमज़ान एक महीने का होता है जिसमें कुल तीन असरे होते है

पहला अशरा (यानि रमज़ान के पहले 10 दिन) ये अशरा रहमत का होता  है।

• दूसरा अशरा (यानि रमज़ान के दुसरे 10 दिन) ये अशरा मगफिरत का होता है।.

तीसरा अशरा (यानि रमज़ान तीसरे 10 दिन) ये अशरा जहन्नम से नजात और खलासी का होता है।

रमज़ान में रोजा खोलने के लिए जो दुआ पढ़ी जाती है उसे रोजा खोलने या इफ्तार कि दुआ कहा जाता है
आज के इस आर्टिकल में हमने आपको आगे यही दुआ बताई है

ये भी देखे : Namaz Ke Baad Ki Dua

Allahumma inni laka sumtu wa bika aamantu wa alayka tawakkaltu wa ala rizq-ika-aftartu.”

(Meaning: O Allah! I fasted for you and I believe in you and I put my trust in You and I break my fast with your sustenance.)

”अल्लाहुम्मा इन्नी लका सुमतु, व-बिका आमन्तु, व-अलयका तवक्कालतू, व- अला रिज़क़िका अफतरतू ”

” रसूल-अल्लाह सललल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया – रोज़ा रखना दोजख से बचने के लिए एक है बेहतरीन रास्ता है इसलिए ( जो रोज़ा रखे हो) वो ना तो बीवी से हमबिस्तरी करे और ना बुरी और जहलत की बातें करे और अगर कोई शख्स उससे लड़ाई करता है या उसे गाली देता है तो उसके जवाब में सिर्फ़ ये कहना चाहिए की मैं रोज़ेदर हूँ दो बार कहना चाहिए”
(सही बुखारी , जिल्द 3, 1894)

अगर आप सभी को khana khane ki dua, khana khane ke baad ki dua ,pani peene ki dua,aur doodh peene ke waqt ki dua aur iftar ki dua का आर्टिकल अच्छा लगा हो तो आप हमारी वेबसाइट theislah.com के कमेंट सेक्शन बॉक्स में हमे बता सकते है। या दुआ से मुतअल्लिक़ कोई भी सवाल पूछना चाहते है तो भी पूछ सकते है। अच्छी बात फैलाना भी सदका- ए- जारिया है।

KHANA KHANE SE PAHLE OR BAD MAI PADNE WALI DUA

2 Comments

  1. Khana khane ki dua galat bataya hai apne.
    Wo dua jo apne bataya hai wo dua bhulne par padhte hai.
    Sahi dua: bismillah wa ala baratillah hai.

  2. Apne jo dua bataya hai wo galat hai.
    Wo dua bhulne par padhte hai.
    Sahi dua: Bismillah wa ala baraktillah hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published.