जौनपुर जिला शिराजे हिंद कैसे बना | Jaunpur District Shiraj-e-Hind in (2022)

जौनपुर जिला शिराजे हिंद कैसे बना | Jaunpur District Shiraj-e-Hind Kaise

Jaunpur District | जौनपुर जिला का इतिहास बहुत ही स्वर्णिम रहा है, इसको शिराज-ए-हिंद के खिताब से भी नवाजा गया था। आइए जानते हैं आखिर क्यों कहा जाता है जौनपुर को शिराज-ए-हिंद।

शिराजे हिन्द कैसे बना

शरकी शासनकाल के दौरान जौनपुर श‍रकियों की राजधानी बन गयी थी। उन्होंने किले के भीतर और शहर चारों ओर सैकड़ों मस्जिदों और मदरसों का निर्माण किया। और इनमें दुनिया के विभिन्न हिस्सों से विद्वान पुरुषों और भक्तों को बुलाया गया। साथ ही शहर के राजा और राज्यपाल द्वारा शिक्षकों को असरफियाँ और पदकों से नवाजा गया, ताकि शिक्षक निश्‍चिंत रूप से छात्रों का पठन पाठन करा सकेे।

विद्वानों का सम्मान

मुहम्मद शाह के समय में Jaunpur District | जौनपुर जिला के गवर्नरों को विद्वानों और भक्तों का सम्मान करने के लिए हमेशा आदेश जारी किए जाते थे। साथ ही स्थानीय राजकोश के मुखिया को मदरसों की रक्षा करने के लिए नियुक्त किया गया था। राजाओं द्वारा लेखकों को मदरसों की स्थिती और शिक्षकों के वेतन की जांच करने और उसमें एक रिपोर्ट तैयार करने के लिए बुलाया जाता था।

वहीं राजाओं को खुश रखने के लिए मदरसों और मठ में आने वाले राजकुमारों और रईसों का बड़े बड़े उपहार देकर सम्मानित किया जाता था। मुहम्मद शाह के बाद अवध प्रांत, बनारस और जौनपुर सरकार को नवाब बुरहान-उल-मुल्क सादत खान की देखभाल के लिए सौंप दिया गया था।

जब नवाब Jaunpur District | जौनपुर जिला आए तो सभी उनके दरबार में पहुंचे, चुंकि धार्मिक विद्वान और शिक्षकों का राज दरबार में उपस्थित होना अनिवार्य नहीं था, इसलिए उनमें से कोई भी दरबार नहीं गया। संयोग से एक दिन नवाब खुद ही उस समय के सम्मानित प्रसिद्ध पुरूषों के नेता से मिलने चले गए।

शिक्षा केंद्र

एक दिन राजा हुमायूं और शाह ताहमास (फारस के सम्राट) की पहली मुलाकात मे जब शाह ताहमास ने हुमायूं से जौनपुर की जनसंख्या और प्रसिद्ध पुरुषों का मूल्यांकन करने को कहा, तब हुमायूं ने जौनपुर के राज्य के अधिकारियों को मदरसों की खोज करने को कहा और वहाँ के शिक्षित व्यक्तियों का सम्मान करने का आदेश दिया।

और इस दौरान भी मदरसे और मठ बनवाए, साथ ही शिक्षित और विद्वान लोगों को बच्चों को शिक्षा प्रदान करने के लिए बुलाया गया। इसके कई सालों बाद, शाहजहां द्वारा जब जौनपुर और ईरान के इस संबंध के बारे में पता चलता है तो वे Jaunpur District | जौनपुर जिला के लिए “भारत के शिराज” का वर्णन करते हैं। यह “तारीख-ए-शाहजहानी” में भी दर्ज किया गया, और उन्होंने जौनपुर को ‘दार-उल-इल्म’ का नाम भी दिया था। (Source: Internet Archive)

Jaunpur District | जौनपुर जिला का इतिहास

जौनपुर, ऐतिहासिक रूप से जाना जाने वाला एक प्रचलित जिला है जिसकी ऐतिहासिक तिथियां का प्रारंभ 1359 से माना जाता है, Jaunpur District | जौनपुर जिला शहर की स्थापना दिल्ली के सुल्तान फ़िरोज़ शाह तुगलक ने की थी और इसे अपने चचेरे भाई मुहम्मद बिन तुगलक की याद में नाम दिया था, जिसका नाम जौन खान था। कहा जाता है कि 1388 में, फिरोज शाह तुगलक ने मलिक सरवर की नियुक्ति जौनपुर में की थी, जो इस Jaunpur District | जौनपुर जिला क्षेत्र का गवर्नर था।

सत्ता संघर्ष

सत्ता के लिए गुटीय लड़ाई के कारण सल्तनत खफा थी और 1393 में मलिक सरवर ने स्वतंत्रता की घोषणा की। शरकी काल के दौरान जौनपुर सल्तनत उत्तरी भारत में एक मजबूत सैन्य शक्ति थी, और कई मौकों पर दिल्ली सल्तनत को धमकी भी दी थी

ये भी पढ़े: बहू पर ससुराल के हुकूक

जौनपुर जिला में धार्मिक एकता

Jaunpur District | जौनपुर जिला उर्दू और सूफी ज्ञान और संस्कृति का एक प्रमुख केंद्र था। शरकी राजवंश मुस्लिमों और हिंदुओं के बीच अपने उत्कृष्ट सांप्रदायिक संबंधों के लिए जाना जाता था, शायद इस तथ्य से उपजा था कि स्वयं शारकी मूल रूप से इस्लाम में धर्मान्तरित थे, जैसा कि फारसियों या अफगानों के वंशजों के विपरीत था। 1480 में जौनपुर की स्वतंत्रता समाप्त हो गई

जब शहर को दिल्ली के सुल्तान सिकंदर लोधी ने जीत लिया। शर्की राजाओं ने शहर को फिर से चलाने के लिए कई वर्षों तक प्रयास किया, लेकिन अंततः असफल रहे। Jaunpur District | जौनपुर जिला में भाई चारा और आपसी सदभाव हमेसा कायम रहा है जिसका श्रेय यहाँ के निवासियों को जाता है

Jaunpur District | जौनपुर जिला की प्रसिद्ध स्मारक

Key में कई ऐतिहासिक स्थल और अच्छी जगहें हैं, जिनमें शार्की काल की इमारते, अकबर द्वारा निर्मित शाही ब्रिज, और शीतला चौकीया धाम पर्यटकों के मुख्य आकर्षण हैं। सभी ऐतिहासिक और उत्कृस्ट जगहों के अपने विशेष महत्व हैं। इनमें से मुख्य हैं:

अटाला मस्जिद

सन् 1408 ई0 में इब्राहि‍म शाह शर्की ने इस मस्‍जि‍द का र्नि‍माण कराया जो जौनपुर में अन्‍य मस्‍जि‍दों के र्नि‍माण के लि‍ये आदर्श मानी गयी। इसकी उचाई 100 फीट से अधि‍क है। इसका र्नि‍माण सन् 1393 ई0 में फि‍रोज शाह ने शुरू कराया था।

Jaunpur District Aatala Masjid
अटाला मस्जिद

जौनपुर की मस्जिदें एक अद्वितीय स्थापत्य शैली को प्रदर्शित करती हैं, जो पारंपरिक हिंदुस्तानी मूल तत्वों के साथ हिंदू और मुस्लिम रूपांकनों को जोड़ती है। 1564 से जौनपुर में गोमती नदी पर बना पुराना पुल, मुगल सम्राट अकबर द्वारा बनवाया गया था जौनपुर किला, जो कि तुगलक युग का एक किला है, आज भी अच्छी स्थिति में है।

जामा मस्जिद (बड़ी मस्जिद)

Jaunpur District | जौनपुर जिला में शाहगंज रोड पर पुरानी बाजार के निकट 200 फीट से भी ज्‍यादा उचाई लिए हुए यह मस्जिद विशिष्‍ट शर्की कालीन उपलब्‍धि है। इब्राहिम शाह के जमाने में इसकी बुनियाद पड़ चुकी थी तथा विभिन्‍न चरणों में इसका निर्माण कार्य पूरा हुआ। यह हुसेन शाह के वक्‍त पूरी बनकर तैयार हुई।

Jaunpur District Jama Masjid
जामा मस्जिद

यह मस्जिद काफी विस्‍तृत आकर्षक व कलात्‍मक है तथा उपर तक पहुचने के लिए 27 सीढि़यां है इसका दक्षिणी द्वार पृथ्‍वी तल से 20 फीट उंचा है। इसके भीतरी प्रांगण का विस्‍तार 219 X 217 फीट है। इस‍के प्रत्‍येक दिशा में फाटक है।

पूर्वी फाटक को सिकन्‍दर लोदी ने ध्‍वस्‍त कर दिया था। मस्जिद का सम्‍पूर्ण घेरा 320 फीट पूर्व पश्चिम व 307 फीट उत्‍तर दक्षिण है। इस मस्जिद की सजावट, मिश्री शैली के बेले- बूटे, मेहराबों की गोलाइयों, कमल, सूर्यमुखी व गुलाब के फूलों का बहुत खूबसूरत डिज़ाइन बनाया गया है।

झांझरी मस्जिद

यह मस्‍जि‍द मुहल्‍ला सि‍पाह Jaunpur District | जौनपुर जिला में गोमती के उत्‍तरी तट पर इस्थित है। इसको इब्राहि‍म शाह शर्की ने मस्‍जि‍द अटाला एवं मस्‍जि‍द खालि‍स के र्नि‍माण के समय बनवाया था क्‍योंकि‍ यह मुहल्‍ला स्‍वयं इब्राहि‍म शाह शर्की का बसाया हुआ था। यहॉ पर सेना, हाथी, घोड़े, उंट एवं खच्‍चर रहते थे।

Jaunpur District Ghajri Masjid
झांझरी मस्जिद

सूफी संतो का स्‍थल था। सि‍कन्‍दर लोदी ने इस मस्‍जि‍द को ध्‍वस्‍त करवा दि‍या था। सि‍कन्‍दर लोदी द्वारा ध्‍वस्‍त कि‍ये जाने के बाद यहॉ के काफी पत्‍थर शाही पुल में लगा दि‍ये गये है। यह मस्‍जि‍द पुरानी वास्‍तुकला का अत्‍यन्‍त सुन्‍दर नमूना है।

लाल दरवाजा मस्जिद

नगर के बेगमगंज मुहल्‍ले में स्‍थि‍त लाल दरवाजा का र्नि‍माण सन् 1450 ई0 में इब्राहि‍म शाह शर्की के पुत्र महमूद शाह शर्की की पत्‍नी बीबी राजे ने करवाया था। इमारत का मुख्‍य दरवाजा लाल पत्‍थरों से नि‍र्मि‍त है जि‍से चुनार से मंगवाया गया था। इमारत का बाहरी क्षेत्रफल 196 गुने 171 फीट के लगभग है।

Jaunpur District Lal Darvaza Masjid
लाल दरवाजा मस्जिद

इसमें मध्‍य के हर तरफ महि‍लाओं के बैठने का स्‍थान है जहां सुन्‍दर बारीक झझरि‍यां कटी हुई है। इसके दो स्‍तम्‍भों पर संस्‍कृत तथा पाली भाषा में कुछ लि‍खावट उत्‍कीर्ण है, जि‍समें संवत् व कन्‍नौज राजाओं के नामाति‍रि‍क्‍त कुछ वि‍शेष अर्थ नही नि‍कलता।

मस्‍जि‍द की केन्‍द्रीय मेहराब को ढाकने वाली चादर काफी सुन्‍दर है, काले पत्‍थरों पर कलमा ” ला इलाहा इलल्‍लाहो मोहम्‍मदुर्रसूलल्‍लाह ” लिखा हुआ है| उपर छत पर जाने के चार रास्‍ते हैं महि‍लाओं के लि‍ए 48 X 44 फीट का अलग से रास्‍ता है। इस्‍लामी शैली पर बनायी गयी यह मस्‍जि‍द वर्तमान में Jaunpur District | जौनपुर जिला के ‘इस्‍लामी शि‍क्षा के उच्‍च केन्‍द्र’ के रूप में प्रसिद्ध है।

शाही पुल

तारीख के अनुसार, Jaunpur District | जौनपुर जिला का यह प्रसिद्ध शाही पुल मुनिन खानखाना ने 1564 ईस्वी में अकबर के शासनकाल में अपनी कमान के तहत बनवाया था। यह भारत में अपनी तरह का एक अनूठा पुल है और इसका मुख्य मार्ग पृथ्वी तल पर बना है। पुल की चौड़ाई दोनों तरफ 2 फीट 3 इंच चौड़ी मुंडेर के साथ 26 फीट है। पल के दोनों किनारो पर गुम्बद नुमा ताख बना है,

Jaunpur District Sahi Pul
शाही पुल

जिसमे कुछ दिन पहले तक लोग खरीदारी करते थे। पुल के बीच में,एक चतुर्भुज मंच है जिस पर, एक विशाल सिंह की प्रतिमा है जो हाथी के पीछे अपने दोनों पंजे पर सवार है। और इसके सामने एक मस्जिद भी है जिसे शेऱ वाली मस्जिद कहते है। पुल के उत्तर की ओर 10 और दक्षिण की तरफ 5 ताखे हैं, जो आठ खम्भों पर रखे गए हैं।

ये भी पढ़े: उधार लेन-देन कैसे करें

शाही क़िला

नगर में गोमती तट पर स्‍थि‍त इस किले का र्नि‍माण फि‍रोज शाह ने 1362 में कराया था। इस किले के भीतरी फाटक 26.5 फीट उंचा तथा 16 फीट चौड़ा है। केन्‍द्रीय फाटक 36 फीट उंचा है। इसके उपर एक वि‍शाल गुम्‍बद बना है। वर्तमान में इसका पूर्वी द्वार तथा अन्‍दर की तरफ मेहराबे आदि‍ ही बची है, जो इसकी भव्‍यता की गाथा कहती है।

Jaunpur District Shahi Kila
शाही क़िला

इसके सामने के शानदार फाटक को मुनीम खां ने सुरक्षा की दृष्‍टि‍ से बनवाया था तथा इसे नीले एवं पीले पत्‍थरों से सजाया गया था। अन्‍दर तुर्की शैली का हमाम एवं एक मस्‍जि‍द भी है। इस दुर्ग से गोमती नदी एवं नगर का मनोहर दृश्‍य दि‍खायी देता है। इब्राहि‍म बरबक द्वारा बनवाई गई मस्‍जि‍द की बनावट में हि‍न्‍दु एवं बौद्ध शि‍ल्‍प कला की छाप है|

शीतला चौकिया धाम

शीतला चौकि‍यां देवी का मन्‍दि‍र बहुत पुराना है। शि‍व और शक्‍ति‍ की उपासना प्राचीन भारत के समय से चली आ रही है। इति‍हास के आधार पर यह कहा जाता है कि‍ हि‍न्‍दु राजाओं के काल में जौनपुर का शासन अहीर शासकों के हाथ में था। जौनपुर का पहला अहीर शासक हीरा चन्‍द्र यादव माना जाता है।

Jaunpur District Shitla Chaukiya
शीतला चौकिया धाम

ऐसा माना जाता है कि‍ चौकि‍यां देवी का मन्‍दि‍र कुल देवी के रूप में यादवों या भरो द्वारा र्नि‍मित कराया गया, परन्‍तु भरों की प्रवृत्‍ति‍ को देखते हुए चौकि‍यां मन्‍दि‍र उनके द्वारा बनवाया जाना अधि‍क युक्‍ति‍संगत प्रतीत होता है। भर अनार्य थे। अनार्यो में शक्‍ति‍ व शि‍व की पूजा होती थी। Jaunpur District | जौनपुर जिला में भरो का आधि‍पत्‍त भी था। सर्वप्रथम चबूतरे अर्थात चौकी पर देवी की स्‍थापना की गयी होगी,

संभवत- इसीलि‍ए इन्‍हे चौकि‍या देवी कहा गया। देवी शीतला आनन्‍ददायनी की प्रतीक मानी जाती है। अत: उनका नाम शीतला पड़ा। ऐति‍हासि‍क प्रमाण इस बात के गवाह है कि‍ भरों में तालाब की अधि‍क प्रवृत्‍ति‍ थी इसलि‍ए उन्‍होने शीतला चौकि‍या के पास तालाब का भी र्नि‍माण कराया। (Source: Jaunpur District)

जौनपुर जिला प्रशासनिक केंद्र कैसे बना

1857 के विद्रोह के दौरान जौनपुर में सिख सैनिक भारतीय विद्रोहियों में शामिल हो गए। जिले को अंततः नेपाल से गोरखा सैनिकों द्वारा अंग्रेजों के लिए फिर से संगठित किया गया था। तब जौनपुर एक जिला प्रशासनिक केंद्र बन गया। Jaunpur District | जौनपुर जिला राज्य की राजधानी लखनऊ से 228 किमी दक्षिण पूर्व में स्थित है। 2011 में की गई की जनगणना के अनुसार, Jaunpur District | जौनपुर जिला में लिंगानुपात 1000 लड़कों पर लड़कियों की संख्या 1,018 है,। जो की उत्तर प्रदेश में सर्वाधिक है । जौनपुर की मुख्य भाषाएँ हिंदी, उर्दू, अवधी और भोजपुरी हैं।

जौनपुर की प्रसिद्धता

जौनपुर जिला क्षेत्र में पाई जाने वाली मूली एवं इमरती की वजह से भी काफी प्रसिद्ध है यहां पाई जाने वाली मूली देश में सबसे अच्छी होती हैं

Jaunpur Court |जौनपुर अदालत

Jaunpur Court |जौनपुर अदालत में दीवानी अदालतों की स्थापना बहुत पुरानी है। वर्ष 1857 से पहले, सदरई अमीर (मुंसिफ और सदरई सदर सिविल जज) की अदालतें शहर में ही स्थित थीं।

1770 में, जब नवाब वज़ीर द्वारा बनारस प्रांत को ईस्ट इंडिया कंपनी को सौंप दिया गया था, तो एकमात्र मजिस्ट्रियल अदालतें अमिल या राजस्व अधिकारियों और शहर जौनपुर के कोतवाल की थीं। यह व्यवस्था 1788 तक जारी रही,

ये भी पढ़े: Concentration शक्ति कैसे बढ़ाए

जब डनकुन ने शहर और उपनगरों के लिए इन मामलों को सुनने के लिए एक न्यायाधीश और पुलिस मजिस्ट्रेट की नियुक्ति की, जो कि वाराणसी में निवासियों के लिए गलत फैसले वाले निर्णयों के खिलाफ अपील करते थे।

Jaunpur District Court
जौनपुर अदालत

ग्रामीण क्षेत्र

ग्रामीण क्षेत्रों के लिए मुल्की अदलात, नागरिक के साथ-साथ आपराधिक शक्तियां, सदर दीवानी और निजामत के न्यायाधीश की क्षमता में Jaunpur Court |जौनपुर अदालत रेजिडेंट के रूप में श्रेष्ठ न्यायालय स्थापित किया गया था। न्यायाधीश का दरबार किले में स्थित था ताकि अपने कार्यालय को अधिक सम्मान दिया जा सके।

1795 में उस वर्ष के विनियमन VII के तहत, देशी अदालत को समाप्त कर दिया गया था, और एक वाचा नागरिक को जिला न्यायालय का न्यायाधीश और मजिस्ट्रेट नियुक्त किया गया था। उसी समय मुंसिफ़ों को नियुक्त किया गया था,

पुराने क़ाज़ियों की स्थिति को कानून द्वारा परिभाषित किया गया था, उनके कार्यों को उन रजिस्ट्रारों के कामों में शामिल किया गया था, और पुलिस का नियंत्रण तहसीलदारों में निहित था, जिन्होंने पूर्व अमीलों की जगह ली थी। अपील का एक प्रांतीय न्यायालय बनारस (अब वाराणसी) में स्थापित किया गया था,

लक्ष्य वितरण के उद्देश्य के लिए दो बार सालाना Jaunpur Court |जौनपुर अदालत के सर्किट पर आने वाले दो न्यायाधीश। 1797 में इसे नियमित रूप से सर्किट कोर्ट बनाया गया, और 1829 में इसके उन्मूलन तक जारी रहा। जौनपुर के न्यायाधीश ने 1830 तक अपनी मजिस्ट्रेट शक्तियों को बनाए रखा जब न्यायाधीश का अस्तित्व समाप्त हो गया।

जिला 1875 में मिर्जापुर और बनारस (अब वाराणसी) के न्यायाधीशों के समवर्ती क्षेत्राधिकार के तहत रखा गया था, और उसके बाद अकेले बाद में। 1880 में, हालांकि, न्यायाधीश का कार्यालय बनाया गया था, और उस अधिकारी को 1894 से Jaunpur Court |जौनपुर अदालत के सिविल और आपराधिक कार्य के अलावा, बस्ती में सत्र आयोजित करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

अब जिला न्यायपालिका का नेतृत्व इलाहाबाद में उच्च न्यायालय के न्यायिक क्षेत्राधिकार के तहतKey में मुख्यालय के साथ जिला न्यायाधीश द्वारा किया जाता है। वह सभी सिविल और आपराधिक मामलों के लिए जिले में सर्वोच्च न्यायिक प्राधिकरण है, उसका न्यायालय मूल अपीलीय क्षेत्राधिकार का प्रमुख नागरिक न्यायालय है।

ये भी पढ़े: बारिश के दिनों मे स्वास्थ्य का ख्याल कैसे रखें

सेशन जज के रूप में वह मजिस्ट्रेटों द्वारा इसके लिए किए गए सत्र के मामलों की सुनवाई करते हैं और मृत्युदंड देने की शक्ति रखते हैं। Jaunpur Court |जौनपुर अदालत 1975 के शुरुआती दौर तक वह पूरे जिले के पदेन जिला रजिस्ट्रार थे। तब से काम स्थानांतरित कर दिया गया है और अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट (वित्त और राजस्व) जिला रजिस्ट्रार के रूप में कार्य करता है। (Source: Gazetteer of District Jaunpur)

पूर्वांचल विश्वविद्यालय | VBSPU Jaunpur

पूर्वांचल विश्वविद्यालय VBSPU Jaunpur , जौनपुर का नाम वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के नाम से रखा गया, दिवंगत श्री वीर बहादुर सिंह, राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री, के सम्मान में 2 अक्टूबर 1987 को यूपी के तहत एक संबद्ध विश्वविद्यालय के रूप में स्थापित किया गया था।

Jaunpur District VBSPU Jaunpur
पूर्वांचल विश्वविद्यालय

राज्य विश्वविद्यालय अधिनियम 1973। सतत गुणात्मक और मात्रात्मक विकास, अकादमिक और प्रशासनिक गतिविधियों में उत्कृष्टता, पारदर्शी और कुशल अकादमिक प्रशासन कुछ विशिष्ट विशेषताएं हैं जिनके आधार पर VBSPU Jaunpur विश्वविद्यालय प्रमुख विश्वविद्यालयों में से एक के रूप में उभरा।

68 संबद्ध कॉलेजों के साथ शुरू किया गया, विश्वविद्यालय ने अब 367 संबद्ध स्नातक और स्नातकोत्तर महाविद्यालयों और छात्रों के साथ पूर्वी उत्तर प्रदेश के 5 जिलों में लगभग तीन लाख और अस्सी हजार के नामांकन के साथ अब यहाँ तक पहोच गया है।

यूनिवर्सिटी की स्थिति

विश्वविद्यालय VBSPU Jaunpur -शाहगंज मार्ग पर ऐतिहासिक शहर Jaunpur District | जौनपुर जिला से 10 किमी की दूरी पर स्थित है, जो इसे 171.5 एकड़ के परिसर को दो भागों में विभाजित करता है। जौनपुर देश के बाकी हिस्सों के साथ ट्रेन, सड़क और वायु से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

VBSPU Jaunpur में बुनियादी ढांचे का विकास, शैक्षणिक उत्कृष्टता की उपलब्धि, उच्च शिक्षा में गुणवत्ता आश्वासन और पूर्वी उत्तर प्रदेश के इस अति पिछड़े और ग्रामीण क्षेत्र के सामाजिक-आर्थिक विकास में से कुछ हैं प्राथमिकता वाले क्षेत्र जिनके लिए विश्वविद्यालय VBSPU Jaunpur अपने सर्वोत्तम प्रयास कर रहा है। (Source: Purvanchal University)

Leave a Reply

Your email address will not be published.